“नालंदा परिसर” होगा प्रदेश के पहले ऑक्सी रीडिंग जोन का नाम


रायपुर। एनआईटी के पास 6 एकड़ जमीन में 15 करोड़ की लगात से बनाए जा रहे ऑक्सी रीडिंग जोन को रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी ने नालंदा परिसर नाम दिया है। कलेक्टर ने बैठक लेकर नालंदा परिसर प्रबंधन सोसायटी का गठन किया। इस सोसायटी में पुलिस अधीक्षक, आयुक्त नगर निगम, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सहित 15 सदस्य है। सोसायटी के सदस्यों ने नालंदा परिसर को 24 घंटे संचालित करने का फरमान दिया है। समीति के सदस्यों ने सोमवार को परिसर में ही मीटिंग करके आगंतुको के लिए शर्ते भी तैयार कर ली है। कलक्ट्रेट कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक पहली बैठक में ही लाइब्रेरी का शुल्क 500 रुपए प्रतिमाह निर्धारित किया गया है। गरीबी रेखा से नीचे वाले सदस्यों के लिए 200 रुपए प्रतिमाह ही भुगतान देना होगा। सदस्यों से कॉशनमनी के रुप में 2500 रुपए लिया जाएगा। ऑक्सी रीडिंग जोन में आने वाले अभ्यार्थियों को फ्री वाई-फाई समेत 50 हजार किताबे और 112 कंप्यूटर उपयोग करने की सुविधा मिलेगी।

लगेगे सीसीटीवी कैमरे
ऑक्सी रीडिंग जोन में सुरक्षा की दृष्टि से 64 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। तीनखंड की बिल्डिंग बनेगी, जिसमें छात्र कहीं पर भी बैठकर पढ़ सकेंगे। सभी सदस्यों को प्रवेश के लिए आईडी कार्ड दिया जाएगा। ऑक्सी रीडिंग जोन में एक समय में एक हजार स्टूडेंट आराम से पढ़ सकेंगे। युवाओं के लिए स्टेशनरी, मेडिकल स्टोर, एटीएम और रेस्टोरेंट की सुविधा भी होगी।