“कमल के हाथ” में एमपी कांग्रेस की कमान, भूपेश का बढ़ा बीपी !


भोपाल / रायपुर। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी की बागडोर प्रदेश समेत देश के कद्दावर नेता माने जाने वाले कमलनाथ को सौपी गई है। वही ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव अभियान समिति का प्रमुख बनाया गया है। ये परिवर्तन राहुल गांधी ने एेन चुनाव से पहले किया है। कमलनाथ के अलावे चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाये गये हैं। चार कार्यकारी अध्यक्ष में उपनेता प्रतिपक्ष रहे बाला बच्चन, रामनिवास रावत, जीतू पटवारी और सुरेंद्र चौधरी के नाम शामिल हैं।
मध्यप्रदेश में हुए इस परिवर्तन के बाद छत्तीसगढ़ में भी फेरबदल की चिंगारी को हवा मिल रही है। बताया जा रहा है कि एमपी पीसीसी में हुए फेरबदल के बाद छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी में भी बदलाव की संभावनाएं ज़्यादा मज़बूत हुई है। सरकार से लेकर सियासी फैसलों में मध्यप्रदेश के बाद छत्तीसगढ़ का ही नंबर लगता है, लिहाज़ा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल का बीपी बढ़ा हुआ है। चुनाव से तक़रीबन 7 महीने पहले हुए फेरबदल से जहाँ एमपी पीसीसी में हड़कंप मचा हुआ है। वही छत्तीसगढ़ के संगठन से असंतुष्ट नेताओं को राहुल से इस तरह के फेरबदल की बड़ी उम्मीदे है।

नौ बार से है सांसद
चुनाव के करीब छह महीने पहले कमलनाथ को मध्यप्रदेश कांग्रेस के कमान सौंपने के कई सियासी मायने नजर आ रहे हैं। कमलनाथ को एमपी की कमान मिलने के बाद उनके सामने सबसे बड़ी परीक्षा विधानसभा चुनाव की होगी। चार बार केंद्रीय मंत्री रह चुके कमलनाथ फिलहाल पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। 34 साल की उम्र में पहली बार चुनाव जीतकर कमलनाथ सांसद बने थे। पिछले नौ बार से लगातार छिंदवाड़ा से वह सांसद बनते रहे हैं।