मानव विकास में पिछड़ा छत्तीसगढ़-अमिताभ कांत


नई दिल्ली। विकाशील राज्य का तमगा लिए घूम रही छत्तीसगढ़ सरकार के विकास के दावों पर नीति आयोग के सीईओं ने अभिताभ कांत से सवाल खड़ा कर दिया है। अमिताभ कांत ने कहा कि भारत के पश्चिम और दक्षिण के राज्य तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, वहीं छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और बिहार जैसे राज्यों की वजह से भारत पिछड़ रहा है। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि हमने इन राज्यों में भी बिजनेस को बढ़ावा दिया है लेकिन हम मानव विकास इंडेक्स में काफी पिछड़े हैं। उन्होंने यहां तक कहा है कि इन राज्यों के कारण भारत पिछड़ रहा है।
दरअसल नीति आयोग के सीईओं अमिताभ कांत जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में अब्दुल गफ्फार खान मेमोरियल में एक लेक्चर देने पहुंचे थे। उस दौरान उन्होंने देश के विकास और उनसे जुड़े तथ्यों को साझा करते हुए ये सारी बाते कही। उन्होंने कहा कि हम एचडीआई में 188 में से 131वें पर हैं। बदलते भारत के मुद्दे पर कांत ने कहा कि पश्चिम और दक्षिण के राज्य तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। हालांकि हम जिला स्तर पर कार्यक्रम करके लोगों को जागरूक कर रहे हैं। कक्षा 5 का बच्चा कक्षा 2 के सवाल हल नहीं कर पाता, वह अपनी मातृभाषा नहीं जानता। हमें शिक्षा समेत कई विषयों पर अभी बहुत काम करने की जरुरत है।

ट्वीटर पर दी सफाई
छत्तीसगढ़ समेत यूपी, बिहार और मध्यप्रदेश जैसे राज्यों को पिछड़ा कहे जाने के बाद नीति आयोग के सीईओं अमिताभ कांत को काफी विरोध भी झेलना पड़ा। इस विरोध के बाद उन्होंने ट्वीट कर बताया कि “ये राज्य विरासत के मुद्दों के कारण मानव विकास संकेतकों पर पिछड़े हैं। इस सरकार के आकांक्षी जिला कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण पर ध्यान केंद्रित करके और वास्तविक समय के आधार पर निगरानी करके इसे सही करना है। “