कलेक्टर की सजगता से रुका “बाल विवाह”

रायपुर। महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम ने आज रायपुर जिले में दो बाल विवाहों को होने से रोका। विभाग की टीम की मुस्तैदी से ये बाल विवाह संपन्न नही हो सके। अक्षय तृतीया के अवसर पर बाल विवाह की संभावना को देखते हुए कलेक्टर ओ.पी.चौधरी ने जिले के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, पुलिस और महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को विशेष रूप से तैनात किया था। रस्म अदाएगी के नाम अक्षय तृतीया पर होने वाले बाल विवाह को रोकने के कलेक्टर, मानवाधिकार आयोग ने भी निर्देश जारी किए थे। विभाग की टीम की समझाईश से वासुदेव पारा निवासी गोवर्धन शर्मा और धरसींवा विकासखण्ड के नगर पंचायत कुंरा निवासी मनहरण ने न केवल अपनी पुत्रियों के बाल विवाह होने से रोका है। टीम ने उसने शपथ पत्र भी लिया जिसमें दोनों के परिजनों ने अपनी बेटियों के 18 वर्ष की आयु होने पर शादी करने की बात लिखी है।