शिक्षा से वंचित न रहे कोई भी बच्चा-प्रभा


रायपुर। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के ज़रिए सभी जिले में आयोग के चल रहे काम क़ाज़ों की समीक्षा की। जिलों में किशोर अधिनियम के प्रावधानों और लैंगिक अपराधों से बालकों के संरक्षण अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए भी प्रभा दुबे ने ज़ोर लगाया। इस दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सभी जिलों के जिला बाल संरक्षण अधिकारी, जिला बाल कल्याण समितियों और जिलों के किशोर न्याय बोर्ड के पदाधिकारी तथा सदस्य मौजूद थे। छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने कहा कि राज्य में कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित नही रहे ऐसे समुचित प्रयास किये जायें। उन्होंने कहा कि सभी बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिलाया जाना चाहिए।
राज्य बाल सरंक्षण आयोग के अध्यक्ष ने कहा कि हम सभी का प्रयास होना चाहिए कि बच्चे नशे से दूर रहें। उन्होंने बाल विवाह और बच्चों से भिक्षावृत्ति जैसी सामाजिक बुराई के प्रति सजग रहने की हिदायत दी है, साथ ही साथ इसके खिलाफ़ जिलों के बाल संरक्षण अधिकारियों और बाल कल्याण समिति के
को मुस्तैदी से कार्यवाही करने कहा है। दुबे ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जिलों के बाल गृह, संप्रेक्षण गृह, विशेष गृह की स्थिति के बारे में जानकारी ली और पदाधिकारियों से बाल गृहों का सतत् निरीक्षण करने को कहा। दुबे ने कहा कि बच्चों को कौशल विकास के अंतर्गत व्यावसायिक प्रशिक्षण देने का समुचित प्रयास किया जाए।