आर-पार की लड़ाई के मूड़ में शिक्षाकर्मी, 24 को बुलाई आपात बैठक !

 

रायपुर। अपने संविलियन के लिए सरकार की तरफ एक टक नज़रे गड़ाए बैठे शिक्षाकर्मी का गुस्सा अब भड़का है। शिक्षाकर्मियों के संविलियन की मांग पर बनी कमेटी भी अब तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है। और न ही सरकार की तरफ से संविलियन का कोई संदेशा आया है। लिहाज़ा गुरुजनों का गुस्सा इस बार ज़रा ज़्यादा विस्फोटक होगा। शिक्षाकर्मियों ने 24 अप्रैल को एक बैठक कलेक्ट्रेड गार्डन में बुलाई है। चीलचिलाती धुप में सुबह 11 बजे से शिक्षाकर्मी सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने का फैसला इस बैठक में ले सकते है। शिक्षाकर्मियों ने इसके पहले भी कई बार अपनी मांगों को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर की थी। संविलियन समेत तमाम मांगों को लेकर शिक्षकों ने मूल्यांकन का बहिष्कार किया था। हालांकि कोई ख़ास असर नहीं दिख पाया तो शिक्षाकर्मी बैकफुट पर आ गए थे। 24 अप्रैल को होने वाली बैठक में वीरेंद्र दुबे, संजय शर्मा, केदार जैन, विकास राजपूत, चन्द्रदेव राय सहित मोर्चा के तमाम बड़े पदाधिकारी मौज़ूद रहेंगे।

दिख सकती है नाराज़गी
हड़ताल के बाद औपचारिक रूप से ये पहली बैठक है। लिहाजा कई लोगो को नाराज़गी बैठक में सामने आएगी, उसे सुलझाने की कोशिश भी बैठक में ही होगी। एक और खास बात ये है कि ये बैठक उस वक़्त हो रही है जब शिक्षक महासंघ लगातार खुद को सरकार के करीब लाने की कोशिश कर रहा है, मंत्रियों से मुलाकात, हस्ताक्षर अभियान जैसे कदमों के बूते महासंघ सरकार तक अपनी पैठ बना रहा है, लिहाज़ा मोर्चा को न सिर्फ अपनी सक्रियता को मजबूत करने की, बल्कि अपने तेवर को धार देने की जरूरत है।