डब्ल्यूआरएस कॉलोनी में 45 मिनट की आतिश बाजी, 101 फिट का रावण

85-85 फिट के मेघनाथ और कुंभकर्ण का है पुतला

रायपुर। डब्ल्यू आर एस कॉलोनी में 101 फीट का रावण और पचासी 85-85 फीट के कुंभकरण और मेघनाथ का दहन किया जाएगा। इसके साथ ही इस बार 45 मिनट तक शानदार आतिशबाजी की जाएगी। सार्वजानिक दशहरा समिति डब्ल्यूआरएस ने इस बार सभी कार्यक्रमों में स्थानीय कलाकारों को तरजीह दी है। समिति के नव नियुक्त अध्यक्ष और रायपुर उत्तर के विधायक बताया कि इस साल दशहरा उत्सव में छत्तीसगढ़ के कलाकारों को प्राथमिकता दी गई है।

रावण दहन से पूर्व सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए रायपुर की सारेगामा की विजेता ऐश्वर्या पंडित और सपना द्वारा शानदार गानों से समा बांधा जाएगा। वहीं 45 मिनट तक आतिशबाजी करने वाली टीम भी इस बार छत्तीसगढ़ की ही है। सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति के सचिव राधेश्याम विभार ने बताया कि दशहरा आयोजन के 50 साल पूरे होने पर आयोजन और खास करने की तैयारी है। साथ ही रामलीला का भी मंचन किया जाएगा।समिति ने इस बार सुरक्षा के लिहाज़ से रेलवे प्रशासन से भी पूरी चर्चा कर अनुमति ली है। रेलवे प्रशासन द्वारा भी इस बात का खास ख्याल रखा जाएगा कि रावण दहन के दौरान ट्रेनों की स्पीड 15 से 20 किलोमीटर प्रति घंटा के बीच ही रखी जाएगी।

5 हज़ार मीटर कपड़ा और एक टन कागज़
101 फिट के रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण का पुतला बनाने के लिए 5000 मीटर कपड़ा और 1 टन कागज का इस्तेमाल किया जा रहा है कपड़े और कागज के अलावा 5000 किलो बोरा 100 किलो सुतली 600 किलो नारियल जूट रस्सी और 1800 नग बांस भी पुतले बनाने में उपयोग किए जा रहे हैं। पिछले कई दिनों से पचासी कारीगर रोज 10 से 12 घंटे मेहनत कर पुतला और स्टेज बनाने में लगे हुए हैं। रावण का मुख्य सर 19 फीट और बाकी 9 सिर 15-15 फीट के बने है। वहीं 150 लीटर रंग से रावण कुंभकर्ण और मेघनाद के मुखोटे को रंगा जा रहा है।