स्कूल शिक्षा मंत्री के विशेष सहायक पर भी गिरी प्रशासनिक गाज

अफसर को सामान्य प्रशासन विभाग में किया गया अटैच

रायपुर | स्कूल शिक्षा और आदिम जाति मंत्री डा.प्रेमसाय सिंह टेकाम शुरू से सुर्ख़ियों में बने हुए हैं। जब से उन्हें मंत्री पद मिला है तभी से वे फंसते नजर आ रहे है। फसाद की शुरुआत मंत्री के विशेष सहायक को लेकर शुरू हुई जो अभी तक खत्म होती दिखाई नहीं दे रही है। पत्नी को विशेष सहायक बनाने के आदेश जारी होने के बाद मंत्री प्रेमसाय सिंह की जमकर आलोचना हुई थी और तो और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा ने भी इसे आड़े हाथो लिया था। यही नहीं कांग्रेस विधायक भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सामने खड़े हो गए थे। जिसके बाद सरकार ने आदेश को निरस्त कर दिया। इसके बाद 28 मई 2019 को जीएडी ने राजनांदगाव के तत्कालीन डिप्टी कलेक्टर नवीन कुमार भगत को बतौर मंत्री प्रेम साय सिंह के विशेष सहायक पद पर पदस्थ किया था। लेकिन सामान्य प्रशासन विभाग ने सोमवार को आदेश जारी कर आईएएस नवीन कुमार भगत को मंत्री विशेष सहायक पद से हटाकर उनके मूल विभाग में भेज दिया गया है।

आईएएस भगत पर गाज
आईएएस भगत को विशेष सहायक पद से हटाकर मूल विभाग भेजे जाने के पीछे कई कारण माने जा रहे हैं। इसके पहले बीते सप्ताह सरकार ने प्रेमसाय सिंह के ओएसडी राजेश सिंह को भी हटाकर उनके मूल विभाग भेज दिया था। राजेश सिंह पर साफ़ तौर पर शिक्षकों और बीईओ, डीईओ के ट्रांसफर में पैसे के लेनदेन का आरोप भाजपा ने खुलकर लगाया था। सरकार की भी काफी किरकिरी इस मामले में हुई। काफी अफरातफरी के बाद अंततोगत्वा राजेश सिंह को ओएसडी के पद से मुक्त कर दिया गया। लेकिन मामला यहीं शांत नहीं हुआ राजेश सिंह का छींटा भगत पर भी पड़ा और उन्हें भी विशेष सहायक पद से हाथ धोना पड़ गया। सूत्र बताते हैं की भगत पर भी ट्रांसफर में लेनदेन की बात मानी जा रही है।