अंतागढ़ ब्रेकिंग : अजीत-अमित मामलें की मुख्य कड़ी, जमानत ख़ारिज

अंतागढ़ मामलें में अजीत और अमित जोगी की जमानत याचिका ख़ारिज

रायपुर। अंतागढ़ टेपकांड मामलें में अजीत जोगी और अमित जोगी की ज़मानत याचिका खारिज कर दी गई है। इस मामलें में कोर्ट ने कड़ी टिपण्णी करते हुए अजीत जोगी और अमित जोगी की जमानत याचिका को खारिज किया है। दोनों नेताओं ने चतुर्थ अतिरिक्त जिला व सत्र न्यायाधीश विवेक कुमार वर्मा की अदालत में अपनी जमानत को लेकर अर्ज़ी दाखिल की थी। अजीटी और अमित जोगी के ख़िलाफ़ पंडरी थाने में अंतागढ प्रकरण को लेकर अपराध क्रमांक 39/2019 दर्ज है।

         ये अपराध कांग्रेस की शिकायत पर दर्ज़ किया गया था। जिसमें धारा 406,420,17(E),17(F), तथा 9-13 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराएँ लगाई गई है। इस मामलें में जोगी की तरफ से अग्रिम जमानत की अर्ज़ी में इन सभी धाराओं से खुद को निष्प्रभावी बताया था। जोगी की तरफ से अधिवक्ता एस के फरहान ने याचिका पेश कर कहा था कि प्रकरण राजनैतिक रुप से गढ़ा हुआ है, और कोई साक्ष्य नही है, प्रकरण में अन्य आरोपियों की अग्रिम जमानत याचिका हाईकोर्ट स्वीकार कर चुकी है।

इस टिपण्णी के साथ कोर्ट ने किया खारिज
माननीय न्यायालय ने अजीत जोगी और अमित जोगी की ज़मानत याचिका पर सुनवाई की और कहा “यह प्रकरण भारतीय लोकतंत्र की आधारशिला और निष्पक्ष चुनाव पर कुठाराघात प्रकृति का है। अभियोजन द्वारा प्रस्तुत प्रकरण में संलग्न लिप्यंतरण से आवेदक अजित जोगी और उसके पुत्र अमित जोगी उक्त षड़यंत्र में अति महत्वपूर्ण दर्शित है। आवेदक और उसका पुत्र षड़यंत्र की मुख्य कड़ी है। इस कड़ी के अभाव में दर्शित घटना घटित होने की संभावना क्षीण हो जाती, इसलिए इन दोनों के अग्रिम जमानत आवेदन को इस प्रकरण में अन्य अभियुक्तों के जमानत आवेदन और उस पर आए निर्णयों के साथ नही देखा जा सकता, अग्रिम जमानत याचिका ख़ारिज की जाती है। “