नक्सलियों के पीएलजीए सप्ताह में फ़ोर्स की पैनी नज़र

हाईअलर्ट पर बस्तर, चप्पे चप्पे में सुराक्षा के इंतजाम

रायपुर। नक्सलियों द्वारा मनाए जा रहे पीएलजीए सप्ताह के चलते स्थानीय पुलिस और बस्तर में तैनात फ़ोर्स को हाईअलर्ट पर रखा गया है। इसके साथ ही पुलिस का खुफिया विभाग भी चप्पे-चप्पे की खबर पुलिस मुख्यालय तक पहुंचा रहा है।

दरअसल पीएलजीए साप्ताह में नक्सली अपने साथियों की मौत पर उन्हें याद करते हैं। और अपनी ओर से श्रद्धांजलि देकर उन्हें शहीद का दर्जा भी देते हैं। इसके साथ ही नक्सली इस सप्ताह में ग्राम सभा कर ग्रामीणों को भी नक्सलियों को शहीद का दर्जा देकर उन्हें सम्मान देने की बात कहते हैं।

नक्सली इस तरह के सप्ताह में अपने द्वारा लड़ी जारी की लड़ाई को जनयुद्ध का दर्जा देकर। इस युद्ध में उनका साथ देने ग्रामीणों को बरगलाने का काम करते हैं। ऐसे में बस्तर संभाग में तैनात सुरक्षा बल को भी इस सप्ताह में बड़ी चुनौती मिलती है। ऐसे आयोजनों में नक्सली अक्सर घात लगाकर एक बड़े हमले को अंजाम देने की कोशिश भी करते हैं। बस्तर में भी यह देखने को मिलता है जब भी नक्सलियों का कोई खास सप्ताह या आयोजन होता है। उस वक्त में नक्सली अपनी ताकत दिखाने की पूरी कोशिश करते हैं। लिहाजा बस्तर संभाग के हर इलाके की नजर और निगरानी की जा रही है।

बड़े हमले की तैयारी में नक्सली
न सिर्फ़ पुलिस जवान और बस्तर में तैनात फ़ोर्स को इस सप्ताह के लिए हाईअलर्ट किया गया है, बल्कि खुफिया विभाग भी हाईअलर्ट पर है। इसकी खास वजह यह भी है, कि शांतिपूर्ण मतदान से बौखलाए नक्सली इस बार कोई बड़ी घटना को अंजाम देने की प्लानिंग जरूर करेंगे। जिस पर वक्त रहते ही फोर्स और पुलिस के जवान काबू पाना चाहते हैं। जिसकी पूरी जानकारी इंटेलिजेंस ब्यूरो ही उन्हें दे सकती है, लिहाजा तीनों टीमों के कोआर्डिनेशन से ही नक्सलियों के बड़े ऑपरेशन को रोकने के साथ ही एक बड़ा हमला पुलिस के जवान भी कर सकते हैं।