Big News : नान के पूर्व MD शिवशंकर भट्ट का रमन-मोहले पर आरोप

नान मामलें में शिवशंकर भट्ट ने दिया कलमबद्ध बयान

रायपुर। नान घोटाले के आरोपी शिवशंकर भट्ट ने कोर्ट कोर्ट में धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज़ कराया है। इस बयान में भट्ट ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, पूर्व खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री और नान अध्यक्ष पर कई गंभीर आरोप लगाए है। शिवशंकर भट्ट ने कलमबद्ध बयान में साल 2011, 2012, 2012-13 और 2013-14 के दौरान धान की कस्टम मीलिंग को लेकर हुई हेर फेर का खुलासा किया है। भट्ट ने बताया है कि 2014-15 में हुई कस्टम मीलिंग के दौरान नान के पास 9 लाख मीट्रिक टन चावल का स्टाक था।

              भट्ट ने कबूल किया कि पूर्व सीएम रमन सिंह के दबाव में बिना कैबिनेट के अनुमोदन के स्वत: के प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए पूर्ववर्ती अधिकारियों ने 236 करोड़ रुपए की क्षतिपूर्ति की गारंटी के किया गया था। नान घोटाले के कई अहम राज फाश करते हुए शिवशंकर भट्ट ने धारा 164 के तहत यह कलमबंद बयान दिया है।

बने 21 लाख फर्जी राशन कार्ड
शिवशंकर भट्ट ने अपने बयान में ये भी कहा कि साल 2013 में 21 लाख फर्जी राशन कार्ड बनाए गए थे। जिसमें एक ही परिवार के तीन से चार राशन कार्ड बनाए गए थे। भट्ट के ब्यान के मुताबिक़ यह काम भी खाद्य विभाग के अधिकारी नहीं करना चाह रहे थे, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व खाद्य मंत्री और नान अध्यक्ष ने अधिकारियों को डरा धमकाकर यह काम कराया और 21 लाख फ़र्ज़ी राशन कार्ड के राशन का गोलमाल किया है।

ये है शिवशंकर भट्ट का पूरा बयान…