CG Govt : सहकारी समिति स्तर पर शुरू हुआ कृषक ऋण माफी तिहार

जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के शाखा मुख्यालय और जिला मुख्यालयों पर आयोजित होगा तिहार

रायपुर | छत्तीसगढ़ सरकार ने लोक हित में किसानो का अल्पकालीन कृषि ऋण माफ किया है। अब राज्य की भूपेश सरकार की पहल राष्ट्रीकृत बैंको से लिए गए ऋण माफ़ करने की है। सरकार द्वारा किसानो को प्रत्येक प्राथमिक साख सहकारी समिति मुख्यालय में ऋण माफी की जानकारी ग्रामीणों को दिया जायेगा। इसके लिए 20 से 30 जुलाई तक ऋण माफी तिहार का आयोजन किया जाएगा। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के शाखा मुख्यालय पर 1 से 10 अगस्त मध्य, जिला स्तर पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक में 10 से 15 अगस्त तक ऋण माफी तिहार आयोजित किए जाएंगे। जिला मुख्यालय पर आयोजित होने वाले जिला स्तरीय ऋण माफी तिहार में प्रभारी मंत्री मुख्य अतिथि होंगे।

कृषको को दी जाएगी जानकारी
समिति स्तर पर आयोजित होने वाले ऋण माफी तिहार में संबंधित ग्राम पंचायतों के सरपंच, पंच, संचालक मंडल के सदस्य, सभी ऋणधारी कृषकों, जनप्रतिनिधियों और ग्रामीणों को आमंत्रित किया जाएगा। ऋण माफी तिहार में समिति द्वारा किए गए ऋण माफी, कृषकों द्वारा इस वर्ष लिए गए खाद, बीज एवं नगद ऋण का वाचन किया जाएगा। तिहार में कृषि, उद्यानिकी, मत्स्य और पशुपालन विभाग के अधिकारी उपस्थित रहकर कृषकों को विभागीय जानकारी एवं परामर्श देंगे। इस अवसर पर राज्य शासन के महत्वकांक्षी सुराजी गांव योजना (नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी) से संबंधित गतिविधियों का प्रस्तुतिकरण किया जाएगा। राजस्व विभाग द्वारा शिविर लगाकर नामांतरण बटवारा की कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा चिन्हांकित स्थल पर गणमान्य नागरिकों द्वारा वृक्षारोपण भी किया जाएगा।

जिला सहकारी बैंको में लगेंगे अगस्त माह में शिविर
जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के शाखा मुख्यालय में 1 से 10 अगस्त मध्य आयोजित होने वाले ऋण माफी तिहार में समितियों में की जाने वाली गतिविधियों के अलावा समस्याओं के समाधान पर विचार कर भविष्य की कार्ययोजना की जानकारी दी जाएगी। कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक भी अनिर्वाय रूप से उपस्थित रहेंगे। यहां जिला पंचायत के सदस्य, अध्यक्ष और उपाध्यक्ष तथा जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया जाएगा और वृ़क्षारोपण भी किया जाएगा।  जिला स्तर पर जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक में 10 से 15 अगस्त तक आयोजित होने वाले ऋण माफी तिहार में कृषि एवं विकास मॉडल पर चर्चा की जाएगी और कृषकों की समस्याओं तथा जिले में ऋण माफी के बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। अब सहकारी बैंकों के अलावा राष्ट्रीय कृत बैंक को के ऋण पर भी माफी की बात बैंक अधिकारिओं से सरकार कर रही है । हर संभव प्रयास है कि जल्द ही राष्ट्रीय कृत बैंकों से ऋण लिए हुए किसानों को भी राहत मिल जाएगी। वहीं मुख्यमंत्री ने सत्ता में आते ही लगभग साढे 3 लाख किसानों को 1248 करोड़ की ऋण माफ किया है। जिसमें सहकारी बैंक के लोन शामिल है। अब किसानों की मांग के आधार पर ही राष्ट्रीय कृत बैंकों से भी लोन लिए हुए किसानों को माफ करने की प्रक्रिया जारी है। साथ ही जो किसान डिफाल्टर हो गए थे उनका वन टाइम सेटेलमेंट कर उन्हें फिर से अपने पांव में खड़े करने की कोशिश सरकार के द्वारा पुरजोर की जा रही है।