चुनाव ड्यूटी से सडकों पर लौट रही अधिग्रहित बसें, यात्रियों को मिली राहत

आरटीओं अफसर बोले 23 तारीख तक सामान्य होगी स्तिथि

रायपुर। छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण के मतदान के लिए अधिग्रहित बसों को छोड़ने का सिलसिला भी शुरू हो चुका है। राजधानी रायपुर से मंगलवार की रात ही तकरीबन 200 बसों को रिलीव किया जा चूका है। साथ ही प्रदेशभर से लौट रहे मतदान दलों के साथ ही वापस पहुंच रही बसों को भी रिलीव करने का काम आरटीओ के द्वारा किया जा रहा है। प्रदेश भर में बने कुल 19 हजार से ज्यादा पोलिंग बूथों के लिए मतदान दल, और उनकी सुरक्षा में तैनात फ़ोर्स को मतदान केंद्रों तक पहुंचाने बसों का अधिग्रहण किया गया था। जिसके लिए प्रदेशभर से तकरीबन 4000 यात्री बसों का अधिग्रहण आरटीओ ने चुनाव आयोग की मांग पर किया था। शान्ति पूर्ण मतदान संपन्न होने के बाद अब मतदान दलों के लौटने के साथ ही बसों को भी छोड़ने का काम जारी है। इसके साथ ही आरटीओ द्वारा अधिग्रहित स्कूल और कॉलेजों की बसों को भी उन्हें लौटाया जा रहा है। अधिकारियों की मानें तो आरटीओ द्वारा अधिग्रहित बसों का किराया उनके खातों पर महज 1 से 2 दिनों के भीतर ऑनलाइन ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

रायपुर जिले में रिलीव हुई अधि बसें

रायपुर जिले में करीब 900 बसों का अधिग्रहण किया गया था। जिसमें रायपुर में 400, बलौदाबाजार में 145, महासमुंद में 150 गाडियां लगाईं गई थी। साथ ही नक्सल प्रभावित जिलों की फ़ेहरिस्त में रहने वाले गरियाबंद जिले में 135 बसे और धमतरी के लिए 20 गाड़ियां अधिग्रहित की गई थी। अफ़सरों की मानें तो इनमें अधि गाडियां अब तक वापस लौटे जा चुकी है।

23 तारीख तक सब कुछ होगा सामान्य

इधर रायपुर आरटीओं पुलक भट्टाचार्य ने बताया कि सडकों पर बसों की स्तिथि तक़रीबन 23 तारीख तक पूर्णत सामान्य हो जाएगी। प्रदेश भर से लौट रही बसों को उनकी डिटेल लेकर रिलीव किया जा रहा है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.