प्रदेश के पहले ‘‘आजीविका अंगना’’ का मुख्यमंत्री ने किया लोकार्पण

समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री को पहनाई सदरी

रायपुर | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हरेली तिहार पर तखतपुर ब्लॉक के ग्राम गनियारी में प्रदेश के पहले आजीविका अंगना यानी मल्टी एक्टिविटी सेंटर का उद्घाटन किया।इसके साथ ही सीएम बघेल ने ग्रामीण औद्योगिक परिसर का उद्घाटन भी किया। परिसर में ही प्रदेश के गौठानों में बनने वाले पहले बॉयो गैस संयंत्र का लोकार्पण भी किया। यहां मिनी राईस मिल, तेल मिल, दाल मिल एवं अन्य संयंत्र स्थापित किये गये हैं। जो कि प्रदेश के गौठान में निर्मित पहला संस्थान हैं। यह संस्थान गनियारी गौठान परिसर में ही बनाया गया है। जिसका संचालन समूह की महिलाओं द्वारा किया जा रहा है।
                            इस अवसर पर उन्होंने सबसे पहले सभी को हरेली की शुभकामनाएँ दी। बघेल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को याद करते हुए राज्य सरकार की प्राथमिकता ग्रामीणों को स्वावलंबी बनाने की बात कही। आजीविका अंगना महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराने का सशक्त माध्यम बन गया है। महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण से राज्य का प्रत्येक परिवार सशक्त बन जायेगा।

मुख्यमंत्री ने किया अंगना का निरिक्षण
मुख्यमंत्री ने डोम के बाहर बाह्य गतिविधियों को देखा। वे ई-रिक्शा में बैठकर पेवर ब्लॉक, फ्लाई ऐश ब्रिक्स, सीमेंट पोल निर्माण का निरिक्षण भी किया। मुख्यंत्री बघेल ने सैनेटरी पैड मशीन, एलईडी बल्ब असेंबलिंग, लेदर बैग, अगरबत्ती निर्माण यूनिट को भी देखा। समूह की महिलाओं ने उन्हें उत्पादों के बारे में जानकारी दी। बघेल ने कहा कि स्वच्छता के लिये महिलाएं सैनेटरी पैड का उपयोग करें।

महिलाओं ने सीएम को भेंट की ‘‘सदरी’’
आजीविका अंगना के निरीक्षण के दौरान समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री को अपने हाथ से बनी सदरी पहनाई। मुख्यमंत्री बघेल ने सदरी पहनकर महिलाओं के कौशल की तारीफ की। उन्होंने कहा कि काफी उमस का मौसम है फिर भी आपका हुनर ऐसा है कि गर्मी महसूस नहीं हो रही है। वहीं आजीविका अंगना की महिलाओं ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को उनकी धर्मपत्नी के लिये चूड़ियां भी भेंट कीं। महिलाओं ने बताया कि इसी केंद्र में उन्होंने इन चूड़ियों को विशेष तौर पर बनाया है। मुख्यमंत्री ने इसके लिये महिलाओं को पांच सौ रूपये की भेंट दी।

बघेल ने किया सामग्री वितरण
गनियारी में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आजीविका अंगना परिसर में ही काम करने वाली दो सौ महिलाओं को सुरक्षा उपकरण, सौ महिलाओं को सिलाई मशीन वितरण, सौ महिलाओं को सायकिल वितरण और पांच महिलाओं को ई-रिक्शा का वितरण किया। इसके साथ ही बघेल ने अन्न सहायता केंद्र में समूह की महिलाओं को भोजन परोसा।