कार्यकर्ताओं की पहली पसंद है भूपेश, बन सकते है मुख्यमंत्री

सुझबुझ और शांत स्वभाव के टीएस सिंहदेव भी मजबूत दावेदार

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को बहुमत मिलने के बाद अब मुख्यमंत्री और कैबिनेट बनाने के लिए जबरदस्त माथापच्ची करनी पड़ रही है। कांग्रेस के ऑब्जर्वर बनकर आए मल्लिकार्जुन खड़गे और प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया नवनिर्वाचित विधायकों की पहली बैठक लेकर दिल्ली रवाना हो चुके हैं।

भूपेश बघेल

पार्टी सूत्रों की मानें तो खड़गे पुनिया और राहुल भूपेश बघेल के नाम पर अंतिम मुहर लगाने की तैयारी कल ही कर चुके थे। लेकिन भूपेश के अलावा प्रदेश की जनता टीएस सिंहदेव को भी मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती है। लिहाजा पार्टी आलाकमान ने इस पर जमीनी कार्यकर्ताओं से भी उनकी रायशुमारी के लिए शक्ति एप का इस्तेमाल किया है। दोपहर 3:00 बजे मलिकार्जुन खडगे प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की बैठक दिल्ली 10 जनपद में आयोजित है। जिसमें खड़ गए अपनी रिपोर्ट रखेंगे और शक्ति एप से मिली कार्यकर्ताओं की राय की रिपोर्ट पार्टी कार्यालय की तरफ से रखी जाएगी। जिसके बाद अंतिम निर्णय कर राहुल गांधी देर शाम तक मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर देंगे।

इसलिए फेवरेट हीरों है भूपेश
छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी में नई जान फूंकने का काम भूपेश बघेल ने किया था। भूपेश को प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कमान उस वक्त सौंपी गई थी। जब कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की प्रथम पंक्ति खत्म हो चुकी थी। और चरण दास महंत से भी यह दायित्व छीनकर भूपेश बघेल को उनकी तेजतर्रार छवि के वजह से प्रदेश का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। तब से लेकर आज तक भूपेश बघेल लगातार भारतीय जनता पार्टी और प्रदेश सरकार पर अपना आक्रामक रुख बरकरार रखें हुए हैं।

सिंहदेव इस लिहाज़ से मज़बूत
वहीं अगर सिंहदेव की बात की जाए तो भूपेश बघेल के साथ हर कदम पर तालमेल मिलाकर विधानसभा के अंदर सरकार की बखिया उधेड़ने का काम कांग्रेस विधायकों ने किया है। साथ ही सिंहदेव के घोषणा पत्र की भूमिका भी इस चुनाव को जीतने में बेहद अहम मानी जा रही है।लिहाजा उनकी प्लानिंग और दूर दृष्टिता को देखते हुए सिंहदेव का नाम भी मुख्यमंत्री की दौड़ में सबसे तेज है।