Naxal : डीजी नक्सल ऑपरेशन बोले-आईईडी पता लगाना है मुश्किल

बीजापुर ब्लास्ट में हुए शहीदों के पार्थिव देह उनके गृह ग्राम रवाना

 

रायपुर। बीजापुर में हुई नक्सल वारदात को डीजी नक्सल ऑपरेशन ने रेगुलर घटना बताई है। इस घटना को चुनाव से नहीं जोड़ने की बात भी उन्होंने कही है। डीजी नक्सल ऑपरेशन डीएम अवस्थी ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि बीजापुर जिले का सबसे संवेदनशील इलाका बासागुड़ा है, जिसके नजदीक ही नक्सलियों ने इस वारदात को अंजाम दिया है।

डीजी अवस्थी ने कहा कि-आवापल्ली थाने का मुरदंडा इलाका नक्सलियों के कब्ज़े का इलाका है। जहां हमारे जवान लगातार अपनी ड्यूटी कर रहे है। उन्होंने किसी भी प्रकार की चूक होने की बात को खारिज करते हुए कहा कि – हमारी किसी प्रकार की लापरवाही नहीं हुई नही हुई और न इंटेलिजेंस फेलियर हुआ।

आईईडी का पता लगाना है मुश्किल
डीजी नक्सल ऑपरेशन ने भी इस बात को कबुल किया है, जंगलों में नक्सलियों द्वारा लगाई जा रही आईईडी फ़ोर्स के लिए बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि जंगलों में प्लांटेड आईईडी का पता करना बेहद मुश्किल है। नक्सलियों ने सीआरपीएफ के शिविर से 800 मीटर की दूरी पर नक्सलियों ने घटना को अंजाम दिया है।

ये हुए थे बीजापुर ब्लास्ट में शहीद
0 जीडी मीर मैथूर रहमान (एएसआई) पश्चिम बंगाल
0 डीएम बेहरा ( हेड कांस्टेबल) उड़ीसा
0 सीएच प्रवीण ( कांस्टेबल) आंध्र प्रदेश
0 जी श्रीनू कुमार (कांस्टेबल) आंध्र प्रदेश

घायल हुए जवान
0 बाबू राव सिद्धेश्वर ( हेड कांस्टेबल) महाराष्ट्र
0 परमार हार्दिक सुरेश कुमार (कांस्टेबल) गुजरात