Gandhi150 : जब नन्हें गांधी को दुलारने लगे सीएम भूपेश बघेल…

“बच्चा-बच्चा गांधी" की थीम पर निकली पदयात्रा

रायपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती के अवसर पर आज सुबह रायपुर के जयस्तंभ चौक से गांधी मैदान तक “बच्चा-बच्चा गांधी“ की थीम पर पदयात्रा निकाली गई। इस पदयात्रा में हजारों की संख्या में नन्हें बच्चों ने महात्मा गांधी की वेशभूषा धारण कर पदयात्रा की अगवाई की। इन बच्चों के पीछे प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राज्य सभा सांसद पी एल पुनिया, पीसीसी चीफ और विधायक मोहन मरकाम, कुलदीप जुनेजा, महापौर प्रमोद दुबे सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधिगण, नागरिक और अधिकारी-कर्मचारी भी चले।

             इस पदयात्रा की शुरुवात से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जयस्तंभ चौक में महात्मा गांधी की वेशभूषा धारण किए हुए नन्हें मूकबधिर बालक हनी को अपने गोद में उठा लिया। मुख्यमंत्री ने मूकबधिर स्कूल कोपलवाणी में कक्षा पहली मेें पढ़ने वाले इस बालक को काफी देर तक उसे दुलारते रहे। मुख्यमंत्री ने सभी बच्चों के उज्जवल भविष्य कामना की। जिसके बाद वे पदयात्रा में शामिल हुए, ये पदयात्रा जयस्तंभ चौक से रवाना होकर गांधी मैदान में समाप्त हुई।


यहां आयोजित सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि वर्ष 1933 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने छत्तीसगढ़ के इसी ऐतिहासिक मैदान में आम-सभा की थी। आज छत्तीसगढ़ का बच्चा-बच्चा उन्हीं के पदचिन्हों पर धोती, लाठी और टोपी पहनकर उनका अनुसरण करते हुए उपस्थित है। इसके पहले जयस्तंभ चैक में मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी बने इन बच्चों का स्वागत किया और कहा कि हजारों की संख्या में बच्चों का महात्मा गांधी का वेशभूषा पहनकर आना एक अभिनव कार्य है। उन्होंने कहा महात्मा गांधी ने सत्य, अहिंसा सहित जो संदेश और आदर्शों दिया है, उस पर चलकर हमें छत्तीसगढ़ और देश का निर्माण करना है।

सत्य और अहिंसा पर आधारित समाज का हो निर्माण- पुनिया
सांसद पुनिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बच्चों-बच्चों को महात्मा गांधी की वेशभूषा में देखकर अच्छा लग रहा है। महात्मा गांधी का सपना तभी पूरा होगा जब हम सत्य और अहिंसा पर आधारित समाज का निर्माण करेंगे। केवल देश ही नहीं बल्कि अनेक अंतर्राष्ट्रीय आंदोलनों ने अपने अन्याय और भेदभाव के विरूध्द महात्मा गांधी के सिध्दांतों और आर्दशों से प्रेरणा ली। छत्तीसगढ़ शासन महात्मा गांधी के आदर्शाें के अनुरूप आगे बढ़ रहा है।