गांधी के विचारों से युवा लाएंगे सामाजिक परिवर्तन – CM भूपेश

"गांधी और आधुनिक भारत" पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला

रायपुर। पंडित रविशंकर विश्व विद्यालय और अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में “गांधी और आधुनिक भारत” विषय पर राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन रायपुर में किया जा रहा है। जिसकी शुरुवात सूबे के मुखिया भूपेश बघेल ने की है। सीएम बघेल ने रविशंकर शुक्ल विश्व विद्यालय सभागार के बाहर महात्मा गांधी के व्यक्तित्व और कृतित्व तथा उनके छत्तीसगढ़ दौरे पर केंद्रित फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस सेमीनार में मुख्य वक्ता के रूप में दिल्ली विश्व विद्यालय के प्रो अपूर्वानंद ने शिरकत की। उनके साथ ही स्वतंत्रता संग्राम सेनानी लीला ताई चितले, सर्वोदय नेता अमरनाथ भोई, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव शरद चन्द्र बेहार ने भी अपनी बातें रखी।

               दिल्ली से आए हुए अतिथि अपूर्वा नंद ने महात्मा गांधी की खूबियों से लोगो को अवगत कराया। साथ ही महात्मा गांधी द्वारा देश के लिए किए कार्यों पर चर्चा की। अपूर्वानंद ने कहा कि हिंसा आधुनिकता नहीं,सभी से एक समान प्यार करना और छूत अछूत जैसी भावनाओ से दूर रहना,देश प्रेम करना आधुनिकता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव शरदचन्द्र बेहार ने कहा कि गांधी जी के सपनों के अनुरूप समाज निर्माण के लिए हमें उनके विचारों और आदर्शाें को अपनाने की जरूरत है। उद्देश्य के साथ-साथ उसे प्राप्त करने के साधन भी पवित्र होना चाहिए।

महात्मा गांधी के सिद्धांतों पर सरकार
इधर कार्यक्रम के उद्घाटन के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने संबोधन में कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बताए सिद्धांतों पर चल रही है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने हमेशा देश हित को सर्वोपरि रखा, देश को भावनात्मक रूप से जोड़ने का अतुलनीय काम किया। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने गांव, गरीब और समाज के कमजोर और वंचित तबकों को सबल बनाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में जीवन भर काम किया। उनके विचारों से समाज में परिवर्तन लाने का दायित्व युवाओं पर है। उनके सिद्धांतों को युवा अपना कर राष्ट्र निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं।