मुख़्यमंत्री डॉ रमन ने फ़हराया तिरंगा, शहीदों को नमन और जनता का जताया आभार

स्वाधीनता दिवस पर मुख़्यमंत्री डॉ रमन ने गिनाई सरकार की उपलब्धियां

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजधानी में ध्वजारोहण किया। बतौर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह 15 वीं बार प्रदेश के मुख्य समारोह में ध्वजा रोहन किया है। इस मौके पर उन्होंने अपने संबोधन की शुरुवात छत्तीसगढ़ी में शैडों को श्रद्धांजली देकर की। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुराजी तिहार के पावन बेरा मा मोर जम्मो संगी-जहुंरिया, सियान-जवान, दाई-बहिनी अउ लइका मन ला गाड़ा-गाड़ा बधाई।

 

Pared Salami
उन्होंने कहा-स्वतंत्रता संग्राम के सभी प्रसिद्ध और अनाम नायकों, राष्ट्र की सुरक्षा और नवनिर्माण में अमिट योगदान देने वाले वीरों और विविध प्रतिभाओं को मैं सादर स्मरण और नमन करता हूँ। हमारे लिए बहुत गौरव का विषय है कि सघन आदिवासी वन अंचल बस्तर में अमर शहीद गैंदसिंह, वीर गुण्डाधूर तथा मैदानी क्षेत्र में शहीद वीर नारायण सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर छत्तीसगढ़ में आजादी की चिंगारी सुलगाई थी, जिसे बाद में लाखों लोगों ने मशाल में बदल दिया।

ये भी पढ़े : हममें है कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 

मुख्यमंत्री ने अपनी तीन पारी की सरकार के लिए भी जनता का आभार जताया। डॉ रमन सिंह ने कहा कि- मेरा सौभाग्य है कि स्वाधीनता दिवस पर, प्राणों से प्यारे तिरंगे झण्डे की छांव में खड़े होकर, आप लोगों को पन्द्रहवीं बार सम्बोधित कर रहा हूं। लगातार तीन पारियों तक आपके सेवक के रूप में मुझे काम करने का अवसर मिला। हर दिन के काम-काज में आप सबका मार्गदर्शन और सहयोग मिला, इसके लिए मैं जीवनभर आप सभी का आभारी रहूंगा।

और सरकार गिनाई उपलब्धियां
इसके बाद मुख्यमंत्री ने अपनी तीन पारियों का कच्चा चिट्ठा जनता के सामने रखा। पुलिस लाईन से मुख्यमंत्री ने प्रदेशभर के हर व्यक्ति तक पहुंच रही योजनाओं का क्रमबद्ध उल्लेख किया। साथ ही उन्होंने अपनी उपलब्धियां भी गिनाई। उन्होंने अंत्योदय योजना को राज्य शासन की योजनाओं का आधार बताया। इसके साथ ही मुखिया ने धान के समर्थन मूल्य में अभूतपूर्व वृद्धि, आदिवासी अंचलों में सरकार की पहुंच, तेन्दूपत्ता संग्राहकों को पारिश्रमिक, शिक्षाकर्मियों का नियमितिकरण, श्रमवीरों के लिए 78 कल्याणकारी योजनाएं, आयुष्मान भारत योजना, ओडीएफ राज्य, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना समेत तमाम योजनाओं का उल्लेख किया।