कल से शुरू होगा अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन

कृषि व वन उपज, हैंण्डलूम, कोसा उत्पादों को मिलेगा ग्लोबल बाजार

रायपुर। राजधानी रायपुर में छत्तीसगढ़ के कृषि उपज, वनोपज, हैण्डलूम कोसा इत्यादि उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर प्रोत्साहन एवं विक्रय को बढ़ावा देने के लिए 20 सितंबर से अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेताओं का सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इससे राज्य के विभिन्न उत्पादों को ग्लोबल मार्केट मिलने की संभावना बढ़ जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 सितम्बर को इस अंतर्राष्ट्रीय क्रेता-विक्रेता सम्मेलन का शुभारंभ करेंगे तथा ‘छत्तीसगढ़ उत्पाद‘ ब्राण्ड का विमोचन करेंगे। यह सम्मेलन राजधानी रायपुर के जी.ई.रोड स्थित होटल सयाजी में 22 सितम्बर तक आयोजित होगा। कार्यक्रम में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे और ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार विशेष रूप से उपस्थित होंगे।


छत्तीसगढ़ में उपलब्ध विशेष गुणों से भरपूर फसलों अनाज, दलहन, तिलहन, वनोपज, साग-सब्जी तथा हैण्डलूूम, कोसा, सिल्क इत्यादि उत्पादों का राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापार को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य कृषि उपज मंडी द्वारा यह आयोजन किया जा रहा है। सम्मेलन में आमंत्रित क्रेता एवं विक्रेता के बीच चर्चा, अनुबंध, एमओयू इत्यादि संपन्न होंगे। इस सम्मेलन में 19 देशों के अंतर्राष्ट्रीय स्तर के लगभग 62 क्रेता एवं देश के अन्य प्रदेशों से लगभग 60 क्रेताओं तथा प्रदेश से लगभग 120 विक्रेताओं के भाग लेने की संभावना है। सम्मेलन में 22 सितम्बर को आम जनता के लिए प्रदर्शन के अवलोकन तथा क्रय-विक्रय के लिए खुला रहेगा।

सम्मेलन में व्यापार तथा क्रियाशीलता, छत्तीसगढ़ के उत्पाद की ब्रांडिंग तथा अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता बढ़ाया जाएगा। इस सम्मेलन के माध्यम से छत्तीसगढ़ के किसानों, बुनकर एवं वनोपज संग्रहण से जुड़े क्रेता-विक्रेता के साथ विस्तृत चर्चा होगी तथा स्वसहायता समूह तथा एफ.पी.ओ. द्वारा अपने उत्पाद का प्रदर्शन के साथ-साथ विक्रय किया जाएगा। इस सम्मेलन में स्थानीय कृषकों को राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय क्रेताओं से सीधे बातचीत कर व्यापार करने का अवसर प्राप्त होगा, जिसके फलस्वरुप उन्हें बेहतर मूल्य प्राप्त होगा एवं बिचौलियों से बचा जा सकेगा।