चुनाव के आखरी समर में नेताओं की जुबान हुई धारदार

राजनीतिक दल हुए एक दुसरे पर हावी

रायपुर | लोकसभा चुनाव-2019 के समर में नेताओं की जुबानी वार काफी तेज नजर आ रही है। लगभग सभी दल पुराने गड़े मुर्दे को उखाड़कर लाने मे कोई कमी नही बरत रहे है। देष में अब केवल चुनाव की अंतिम घड़ी आ चुकी है। महज दो चरण के मतदान होने ही बाकी है। लेकिन जुबानी तलवार से घायल करने में कोइ कोर कसर नहीं छोड़ रहा है। अब कांग्रेस के राश्ट्रीय अध्यक्ष ने सुप्रीम कोर्ट से ‘‘चैकीदार चोर है‘‘ षब्द पर माफी मांगने के बाद भी राहुल गांधी को उनके प्रतिद्वंदी घेरना नही छोड़ रहे है।

अभद्र नारे को छत्तीसगढ़ से जोड़ रहे राहुल गांधी-भाजपा
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कांग्रेस के राश्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के ‘‘चैकीदार चोर है‘‘ बयान को छत्तीसगढ़ से जोड़ने पर खुला अपमान करार दिया है। भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि जिस छत्तीसगढ़ ने कांग्रेस को साथ्ज्ञ देकर सत्ता सौंपी है। अब उस प्रदेष के नाम पर ओछी राजनीति करना केवल कांगे्रस ही जानती है। कोर्ट की फटकार और बाद में अवमानना के लिए सुप्रीम कोर्ट से निःशर्त माफी मांगने वाले राहुल गांधी ने अपने दिमागी फितूर से उपजे नारे को छत्तीसगढ़ के मत्थे मढने की शर्मनाक कोशिश की है। छत्तीसगढ़ का राजनीतिक परिवेश सामंजस्य और सौहाद्र्र का रहा है, और सामान्यतः प्रतिकूल परिस्थिति में भी प्रदेश का कोई भी नागरिक इस तरह की अभद्र टिप्पणियां देश के प्रधानमंत्री के लिए तो नहीं ही करता। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि अब कोर्ट ने जब उनसे माफी मंगवाई तब उन्हें अपने राजनीतिक फितूर से हो रहे नुकसान का अहसास हुआ है। अपने इस राजनीतिक चरित्र के प्रदर्शन के साथ राहुल गांधी ने छत्तीसगढ़ का जो खुला अपमान किया है, उसके लिए उन्हें अविलंब छत्तीसगढ़ से निःशर्त क्षमा मांगनी चाहिए।

मोदी ने प्रधानमंत्री पद की गरिमा गिराई – कांग्रेस
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी पर दिए बयान पर कांग्रेस बिफरी नजर आ रही है। राश्ट्रीय नेतृत्व के साथ-साथ प्रदेष का नेतृत्व भी प्रधानमंत्री के बयान से आहत होता दिखाई दे रहा है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि मोदी जी और कितना झूठ बोलेंगे? देश के इस सर्वोच्च पद पर रहे किसी भी दल के व्यक्ति ने कभी भी प्रधानमंत्री पद की गरिमा को गिरने नहीं दिया। इस देश में अल्प समय के लिये अल्प बहुमत वाले प्रधानमंत्री भी हुये लेकिन सभी ने प्रधानमंत्री पद की गरिमा और दायित्वों के महत्व को समझा था। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बारे में आपत्तिजनक और गलत बयानी करके नरेन्द्र मोदी ने यह साबित कर दिया सत्ता हाथ से फिसलती देख कर उन्होने अपना संतुलन खो दिया है। अपने पांच साल के कार्यकाल की विफलताओ को छुपाने के लिये मोदी और उनकी रक्षामंत्री गलत बयानी कर रहे है। देश के प्रधानमंत्री पद पर बैठा व्यक्ति लगातार गलत बयानी कर रहा है तो उस व्यक्ति की नीयत और मानसिक स्थिति पर सवाल तो उठेंगे। देश की जनता मोदी के इस आचरण को देख रही है और समझ रही है। मोदी को जनता का जवाब 23 मई को मिलेगा।