नवरात्र विशेष : रायपुर का ऐसा मंदिर जिसकी स्वयं देवी ने कराई थी स्थापना

देश भर ही नहीं बल्कि विदेशों से पहुचते है मनोकामना ज्योत प्रज्वल्लित

रायपुर। राजधानी रायपुर में एक एसा मंदिर भी है, जिसकी स्थापना खुद देवी ने कराई थी। ये मंदिर तक़रीबन डेढ़ हजार साल पुराना बताया जाता है। जहाँ माँ भवानी की प्रतिमा और मंदिर स्थापित प्रत्येक देवी देवता प्रत्यक्ष विराजमान है। ये है राजधानी का महामाया मंदिर ! वैसे तो छतीसगढ़ में छत्तीस महामाया है, मगर राजधानी रायपुर की माँ महामाया के मंदिर का हर कोना कुछ कहता है।

Raipur Mahamaya

एतिहासिक और पौराणिक मान्यताओं वाले इस मंदिर का निर्माण भी तक़रीबन 1350 साल पहले हैहयवंशी राजाओं ने कलचुरी काल में किया था। इतिहासकार कहते है कि हैहयवंशी राजाओं ने छत्तीसगढ़ में छत्तीस किले बनवाए और हर किले की शुरुआत में माँ महामाया के मंदिर बनाया था। माँ के इन छत्तीसगढ़ों में एक गढ़ है, रायपुर का राजराजेश्वरी माँ महामाया मंदिर, जहां महालक्ष्मी के रूप में दर्शन देती हैं माँ महामाया और सम्लेश्वरी देवी। माँ का दरबार सदियों से लोगों की आस्था का केंद्र बना हुआ है। तांत्रिक पद्धति से बने इस मंदिर में देश ही नहीं विदेशों से भी भक्त आते हैं। माता का यह मंदिर बेहद चमत्कारिक माना जाता है, यहां सच्चे मन से मांगी गई मन्नत तत्काल पूरी होती है।

Mahamaya Raipur

तांत्रिक विधि से बना है मंदिर
माँ महामाया मंदिर का निर्माण पूरी तांत्रिक प्रक्रिया के ताहत हुआ है। इस मंदिर के गुंबज में श्री यंत्र की आकृति बनी है, साथ ही मंदिर प्रांगन का हर कोना तांत्रिक विधि से निर्मित है। इसका प्रमाण देता है मंदिर का गर्भगृह। मंदिर के गर्भगृह में बने दो खिड़कियाँ एक ही सीध में बनी है मगर इन दोनों खिडकियों में से एकाव एल से ही माँ माहामाया की प्रतिमा के दर्शन हो पाते है दुसरे से नहीं। मंदिर के पुजारी पंडित मनोज शुक्ला बताते हैं कि माँ महामाया देवी, माँ महाकाली के स्वरूप में यहां विराजमान हैं। सामने माँ सरस्वती के स्वरूप में माँ सम्लेश्वरी देवी मंदिर विद्यमान है। इस तरह यहां महाकाली, माँ सरस्वती, माँ महालक्ष्मी तीनों माताजी प्रत्यक्ष प्रमाण रूप में यहां विराजमान हैं।

Mahamaya raipur cg

जब स्वयं प्रकट हुईं देवी
इतिहास इस बात से सहमत है कि वर्तमान शहर की घनी आबादी के मध्य स्थित श्री महामाया देवी का यह मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है। जनश्रुति के अनुसार इस मंदिर की प्रतिष्ठा हैहयवंशी राजा मोरध्वज के हाथों किया गया था। बाद में भोंसला राजवंशीय सामन्तों व अंग्रेजी सल्तनत द्वारा भी इसकी देखरेख की गई है। किवदन्ती है कि एक बार राजा मोरध्वज अपनी रानी कुमुद्धती देवी (सहशीला देवी) के साथ सदल-बल अपने राज्य के भ्रमण में निकले थे, जब वे वापस लौट रहे थे, तो प्रात: काल का समय था। राजा मोरध्वज खारुन नदी के उस पार थे, नदी पार करते समय मन में विचार आया कि प्रात: कालीन दिनचर्या से निवृत्त होकर ही आगे यात्रा की जाए। यह सोचकर नदी किनारे (वर्तमान महादेवघाट) पर अपने पड़ाव डलवा दिए। दासियां कपड़े का पर्दा कर रानी को स्नान कराने नदी की ओर ले जाने लगीं। जैसे ही नदी के पास पहुंचीं तो रानी व उनकी दासियां देखती हैं कि बहुत बड़ी शिला पानी में पड़ी हुई है और तीन विशालकाय भुजंग (सर्प) तीन ओर से फन काढ़े घूम रहे थे। यह दृश्य देखकर वे सभी डर गईं और चिल्लाते हुए पड़ाव में लौट आईं। सारा समाचार राजा को भिजवाया गया। समाचार मिलते ही राजा तुरंत उस स्थान पर आए। उन्होंने भी यह दृश्य देखा तो आश्चर्य चकित रह गए। तत्काल अपने राज ज्योतिषी व राजपुरोहित को बुलवाया। उन्होंने भी देखा और ध्यान करके राजा को बताया कि हे राजन यह पत्थर नहीं देवी की मूर्ति है तथा उल्टी पड़ी हुई है। उनके बताई सलाह द्वारा राजा मोरध्वज ने स्नान आदि के पश्चात विधिपूर्वक पूजन किया और शिला की ओर धीर-धीरे बढ़ने लगे। तीन विशालकाय सर्प वहां से एक-एक कर सरकने लगे। उनके हट जाने के बाद राजा ने उस शिला को स्पर्श कर प्रणाम किया और सीधा करवाया। सभी लोग यह देखकर आश्चर्यचकित रह गए कि वह शिला नहीं बल्कि सिंह पर खड़ी हुई तथा महिषासुरमर्दिनी रूप में अष्टभुजी भगवती की मूर्ति हैं। यह देख सभी ने हाथ जोड़ कर प्रणाम किया।

Mahamaya mandir raipur

उस समय मूर्ति से आवाज निकली। हे राजन! मैं तुम्हारी कुल देवी हूँ। तुम मेरी पूजा कर प्रतिष्ठा करो, मैं स्वयं महामाया हूँ। राजा ने अपने पंडितों, आचार्यों व ज्योतिषियों से विचार विमर्श कर सलाह ली। सभी ने सलाह दी कि भगवती माँ महामाया की प्राण-प्रतिष्ठा की जाए। तभी जानकारी प्राप्त हुई कि वर्तमान पुरानी बस्ती क्षेत्र में एक नये मंदिर का निर्माण किसी अन्य देवता के लिए किया गया है। उसी मंदिर को देवी के आदेश के अनुसार ही कुछ संशोधन करते हुए निर्माण कार्य को पूरा करके पूर्णत: वैदिक व तांत्रिक विधि से खारुन नदी से लाकर आदिशक्ति माँ महामाया की प्राण प्रतिष्ठा की गई।

raipur mandir mahamaya

माणिक है मंदिर से जुड़ा इतिहास
मंदिर से जुड़ा इतिहास प्रमाणिक है। इस पर पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग ने कई रिसर्च किए हैं। शासन के पुरातत्व विभाग ने मंदिर के इतिहास को प्रमाणिक किया है। मंदिर के इतिहास पर सबसे पहले 1977 में महामाया महत्तम नामक किताब लिखी गई। इसके बाद मंदिर ट्रस्ट ने 1996 में इसका संशोधिक अंक प्रकाशित करवाया। 2012 में मंदिर की ओर से प्रकाशित की गई रायपुर का वैभव श्री महामाया देवी मंदिर को इतिहासकारों ने प्रमाणिक किया है। सभी किवदंतियों और जनश्रुति का उल्लेख प्रमाणिक किताबों में मिलता है।

 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.