प्रदेश की जनता से सीएम भूपेश की होगी ”जन चौपाल”

3 जुलाई से प्रत्येक बुधवार आम जनता से सीएम हॉउस में मिलेंगे मुख्यमंत्री

रायपुर | छत्तीसगढ़ के मुखिया भूपेश बघेल अब जनता की आवाज सुनने के लिए अपने निवास पर ”जन चौपाल” लगाने जा रहे हैं। जो 3 जुलाई से प्रत्येक बुधवार लगेगी। जिसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आम जनता से सीधे जुड़ेंगे।

                                मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा सत्ता की बागडोर संभालते हुए 7 महीने बीत रहे हैं। इस बीच सत्ता में आने के बाद ही सरकार को कुछ थोड़ा ही समय मिला है, जो जनता के लिए वह काम करें। क्योंकि महज 3 महीने के बाद ही लोकसभा चुनाव के चलते पूरे देश भर में आचार संहिता लागू हो गई थी, जिसके कारण किसी भी जन सुविधा को लेकर सरकार सामने नहीं आ पाई। अब जाकर मुख्यमंत्री ने आम जनता की सुध ली है और यही कारण है कि अब 3 जुलाई से ”मुख्यमंत्री की जन चौपाल” शुरू होने जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने जन चौपाल के लिए सभी संबंधित विभागीय अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दे दिया है, ताकि आम जनता के समस्याओं को त्वरित निराकरण किया जा सके और कोई भी जनता उनके दरबार से खाली हाथ ना लौटे। जन चौपाल के दौरान प्रदेश की जनता कई मांगों और समस्याओं को लेकर उनके सामने पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री के लिए एक बड़ी चुनौती होगी कि राजकोष में कम धन होने के बावजूद भी उन समस्याओं को समय रहते पूरा करना होगा, जो एक बड़ी चुनौती साबित हो सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जन चौपाल के लिए सारी तैयारियां भी कर ली है। साथ ही अपने पार्टी यानि कांग्रेस के सभी सदस्यों को भी आगाह किया गया है कि जन चौपाल में जनता की समस्याओं पर नजर रखा जाए। ताकि किसी भी तरह से आम जनता दुखी ना हो और उसकी सभी समस्याओं को समय रहते निदान किया जा सके। उल्लेखनीय है कि 3 जुलाई बुधवार (प्रति बुधवार) से मुख्यमंत्री निवास में सुबह 11 बजे से यह जन चौपाल आयोजित की जाएगी जिसमें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जनता के समक्ष बैठकर उनकी समस्याओं और मांगों पर विचार कर निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देशित भी करेंगे। खासकर यह भी देखा जा रहा है कि पिछली सरकार में जिस तरह से जनदर्शन में आम लोग नाराज होकर लौटते थे। इस बार भूपेश सरकार में हो रहे ”जन चौपाल” में कोई भी जनता निराश ना लौटे। इसके लिए अधिकारियों को सख्त निर्देश भी दिया गया है।

रमन के जनदर्शन को मिला था श्रेय
पिछली सरकार यानी डॉक्टर रमन सिंह की सरकार ने भी अपने कार्यकाल में ”सीएम जनदर्शन” शुरू किया था। जिससे आम जनता को भी काफी राहत भी मिली थी। हालांकि जनता के पूरी समस्याओं का निराकरण मुख्यमंत्री रहते डॉक्टर रमन सिंह ने भी पूरा नहीं कर पाया था। यह हम नहीं, यह प्रदेश की आम जनता कहती है। रमन सिंह के जनदर्शन की बात करें तो रमन सिंह ने अपने तीन कार्यकाल में से दो कार्यकाल में जनदर्शन के माध्यम से जनता के बीच पहुंचने की भरसक कोशिश भी की थी। यही कारण है माना जा रहा है कि तीन बार भारतीय जनता पार्टी को आम जनता ने शिरोधार्य भी किया था। वही 2018 के विधानसभा चुनाव के कुछ महीने पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने ”ई-जनदर्शन” का भी शुरुआत किया था। ताकि आम जनता घर बैठे ही सारी समस्याएं अपने मुखिया को सुना सके इसका भी लाभ जनता को मिला था।