नैक से “ए” ग्रेड मिलने के बाद लुढ़क रहे रिसर्च के आंकड़े

रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में गाइड प्रोफ़ेसर की कमी

रायपुर। पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय लगातार रिसर्च और प्रोजेक्ट घटते जा रहे हैं। जिसकी मूल वजह प्रोफेसरों की कमी को बताया जा रहा है।

PTRSU Raipur

दरअसल पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय ने बीते साल नेशनल एक्रीडिएशन एंड एसेसमेंट काउंसलिंग की ग्रेडिंग में ए ग्रेड हासिल किया था। ये ए ग्रेड रविशंकर शुक्ला विश्वविद्यालय में चल रहे रिसर्च और प्रोजेक्ट के साथ ही विश्वविद्यालय के तमाम तरह के गतिविधियों को देखते हुए नैक ने दिया था। लेकिन साल 2017-18 की अपेक्षा 2018-19 के सत्र में महज 3 ही नए प्रोजेक्ट पर रिसर्च किया जा रहा है। यह तीनों प्रोजेक्ट विश्वविद्यालय के केमिस्ट्री विभाग के हैं। लगातार घटते रिसर्च की संख्या से विश्व विद्यालय को मिलने वाले अनुदान पर भी नुकसान उठाना पड रहा है। ए ग्रेड हासिल करने के साथ ही विश्व विद्यालय को यूजीसी समेत कई नेशनल एजेंसी से तक़रीबन 50 करोड़ रुपए से अधिक के फंड मिलने थे मगर अब तक विश्व विद्यालय द्वारा अपनी प्रोग्रेस रिपोर्ट भी नाइक को नहीं सौपी गई है, जिसकी वज़ह से अनुदान की राशि भी अटकी हुई है।