राज्योत्सव 2019 : स्थानीय कलाकार ही नहीं स्थानीय कम्पनियां ही करेंगी काम

लाइट, साउंड, स्टेज जैसे सभी कार्यों में स्थानीय कंपनियों को दी गई है प्राथमिकता

रायपुर। छत्तीसगढ़ में 1 नवंबर को राज्य उत्सव मनाया जाएगा। सुबह की नई सरकार ने जहां राज्य उत्सव कार्यक्रम का स्थान परिवर्तन किया है। वही कार्यक्रम और उनकी रुप रेेेखा में भी सरकार ने कई बदलाव किए हैं ।बाहरी कलाकारों पर पाबंदी के साथ ही भूपेश सरकार ने  सभी काम स्थानीय कंपनियों से भी करवाने का फैसला लिया है। यहां की स्थानीय कंपनियों को राज्य उत्सव कार्यक्रम में काम करने का मौका दिया गया है। इस बार राज्य उत्सव में कार्य करने के लिए जो निविदा बुलाई गयी है, उसमें स्थानीय कंपनियां ही ज्वाइंट वेंचर के माध्यम से बाहरी कंपनियों को काम करने का मौका दे सकती है।

सीएम भूपेशयानि लोकल कंपनियों को पहले प्राथमिकता दी गई हैं। यदि लोकल कंपनी चाहे तो बाहर की कंपनियों को साथ में काम करने का मौका दे सकती है। साथ ही अपनी काबिलियत को निखारने का मौका मिला हैं। बता दें कि भूपेश सरकार की मंशा के अनुरूप लोकल कंपनियों को राज्य उत्सव जैसे बड़े कार्यक्रम में हाथ आजमाने का मौका मिला है। इस बार के टेंडर में नए सिरे से रिवाइस किया गया हैं। साथ ही इस बार के राज्य उत्सव कार्यक्रम में स्थानीय कलाकारों को ही मंच पर मौका मिलेगा। अक्सर राज्य उत्सव के दौरान मोटे रकम खर्च किए जाते थे और बाहरी सेलिब्रिटियों को ही मौका मिलता था। पर इस बार राज्य उत्सव कार्यक्रम साइंस काॅलेज ग्राउंड में होगा। जहां पर कंपनियों को संस्कृति कार्यक्रम के अलावा कई और भी कार्याेें की जिम्मेदारी दी गई है।