भूपेश सरकार की पांच योजनाओं पर रमन का आरोप, कही ये बात

बुनकरों का हवाला देकर रमन ने सरकार पर किया कटाक्ष

रायपुर। विशेष विधानसभा सत्र के आखरी दिन पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने राज्य सरकार पर आरोपों की झड़ी लगा दी। डॉ रमन ने भूपेश सरकार की महात्मा गांधी की जयंती पर लांच की गई 5 योजनाओं को निशाने पर लेकर वार किया। रमन ने इन योजनाओं पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सभी योजना पुरानी सरकार की योजना है, जिसे उलट फेर कर अपने खाते में लेकर चलाने की कोशिश की गई। रमन ने सभी पांचो योजना पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि पिछली सरकार की योजनाओं से परे हटकर नई सोच सरकार को लाना था, तभी गांधी को सच्ची

cm and ex cm                        श्रद्धांजलि होती। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बुनकरों को आने वाले 5 साल तक बेरोजगारी दूर करने की सोच होनी चाहिए थी। गांधी को हम सच्ची श्रद्धाजंलि देना चाहते है तो छत्तीसगढ़ के 42 हजार बुनकर हैं, उनके पास कोई काम नहीं बचा है। अगर गांधी जयंती पर कुछ करना ही था तो कम से कम उन बुनकरों की सुध ले सकते थे। इस पवित्र विधानसभा में उन बुनकरों के रोजगार की सुरक्षा की गारंटी ली जा सकती थी।

हमने नहीं चढ़ाया कलेवर-मरकाम
इधर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बयान का पलटवार करते हुए पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने दावे के साथ है कि सभी योजना भूपेश सरकार के द्वारा सृजित की गई है। मरकाम ने कहा कि हमने किसी भी तरह से उनकी पुरानी योजनाओं को कोई कलेवर नहीं चढ़ाया गया है, ये हमारी सोच और जनता के लिए हित के लिए बनी योजनाएं है। उन्होंने कहा कि इन्हीं योजनाओं के तहत अब छत्तीसगढ़ से कुपोषण पूरी तरह से दूर हो जाएगा और साथ ही एपीएल परिवारों को ही राशन की सुविधा मिलने लगेगी। इसके साथ ही चलित स्वास्थ्य वाहन भी प्रदेश के कोने-कोने में पहुंचकर आम लोगों को स्वास्थ्य मुहैया करवा पाएगी। 15 सालों में भाजपा ने जो नहीं किया उसे भूपेश सरकार पूरी करने के लिए कटिबद्ध है।