राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कार्यकर्ताओं ने किया पथ संचलन, मनाया स्थापना दिवस

संघ कार्यकर्ताओं ने देश की एकता और अखंडता बनाए रखने का लिया संकल्प

रायपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने विजयदशमी पर शहर भर में पथ संचलन किया। जिसमें हजारों की संख्या में स्वयंसेवकों ने शहर के मुख्य मार्गो से कतार बद्ध होकर एकता और अखंडता का संदेश दिया। दशहरा के साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थापना दिवस पर संघ कार्यकर्ताओं ने राजधानी रायपुर के बुढ़ापारा से शुरू होकर पुरानी बस्ती, आमापारा, लाखे नगर से शहर के मुख्य मार्गो से गुजर कर वापस बुढ़ापारा में समाप्त किया गया। बूढ़ापारा में संघ कार्यकर्ताओं ने शस्त्र पूजा भी की। पथ संचलन के दौरान स्वयंसेवकों ने संघ गीत गाकर शहर भर में कतार बद्ध होकर अपने शौर्य का प्रदर्शन किया। इस विजयादशमी को संघ के कार्यकर्ताओं को बुराई को खत्म करने का संकल्प आरएसएस के अखिल भारतीय बौद्धिक शिक्षण प्रमुख स्वांतरंजन ने दिलाया।


उन्होंने स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि देश में बढ़ रही कुरीतियां और भय के माहौल से लोगों को बाहर लाने के लिए हम सबको कृत संकल्पित होना होगा। वही सह प्रांत सरसंघचालक डॉक्टर पूर्णेन्दु सक्सेना ने कहा कि विजयदशमी पर हर साल संघ अपनी सार्वजनिक क्रियाकलाप को दोहराता है। यह हमारी परंपरा रही है कि हिंदू समाज के लिए दशहरा बड़े त्योहारों में से एक है। जिसमें 9 दिन शक्ति की आराधना के बाद दशहरे के रोज शस्त्र पूजा कर किया जाता है। संघ की स्थापना दिवस में भी हम इसकी स्थापना के मूल संकल्प को याद करने के लिए भी एकजुट होकर हिंदू समाज को एक सूत्र में बांधने के लिए यह पथ संचलन करते हैं।

जगह जगह हुआ स्वागत
संघ के पथ संचलन का शहर भर में अलग अलग समाज और समुदाय के लोगो ने विभिन्न तरीके से स्वागत किया। इसी क्रम में ब्राम्हणपारा के पार्षद आकाश दुबे और वार्ड वासियों ने भी पथसंचलन का स्वागत पुष्प वर्षा कर किया। दुबे ने कहा कि विजयदशमी के शुभ अवसर पर निकले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पथ संचलन का ब्राह्मण पारा वासियों ने पुष्प वर्षा कर के स्वागत किया।