मतगणना के लिए आरओ एवं अन्य अधिकारियो का प्रशिक्षण

अधिकारियों ने समझी मतगणना की बारीकियाँ

रायपुर| लोकसभा के आम निर्वाचन के तहत 23 मई को प्रदेश में होने वाली मतगणना के लिए रायपुर में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने प्रशिक्षण आयोजित किया था। राज्य के सभी 27 जिलों के कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों, सहायक रिटर्निंग अधिकारियों तथा उप जिला निर्वाचन अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने अधिकारियों को मतगणना के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में जानकारी दी।

                                         सीईओ सुब्रत साहू ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अब जबकि ईवीएम मशीन से अंतिम चक्र की मतगणना के पश्चात 5 व्हीव्हीपेट मशीनों की पर्चियों की गणना किया जाना है। ऐसे में समय और संसाधन का प्रबंधन बहुत आवश्यक है। इसलिए इसके तकनीकी पहलुओं और इसकी बारीकियों के बारे में प्रशिक्षण में बताई गई बातों के बारे में विशेष ध्यान दें।

प्रशिक्षण के लिए बनाया गया था डमी मतगणना हॉल
रायपुर में आयोजित इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान वास्तविक मतगणना केन्द्र को दर्षाने के लिए आदर्श मतगणना केंद्र भी तैयार किया गया था ताकि 23 मई को होने वाली मतगणना के लिए अधिकारियों का प्रशिक्षण अधिक व्यावहारिक रूप से संपन्न हो सके। प्रशिक्षण स्थल को मतगणना हॉल में बदला गया था। इस डमी मतगणना हॉल में प्रत्येक छोटे- बड़े विषयों और तकनीकी पहलुओं का विशेष ध्यान रखा गया था। 23 मई को मतगणना के दौरान मतगणना हॉल में टेबुलेषन से लेकर अधिकारियों,प्रत्याषियों और उनके एजेंट के बैठने की पुरी व्यवस्था को डमी के माध्यम से दर्षाया गया था। इसके साथ ही वीवीपैट की गणना, डाक मतपत्र की गणना अन्य कई महत्वपूर्ण विषयों को शामिल करते हुए मतगणना हॉल का प्रादर्श बनाया गया था। प्रशिक्षण के दौरान व्यावहारिक अनुभव कराने के लिए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू ने सभी रिटर्निंग अधिकारियों के साथ मिलकर आदर्श मतगणना हॉल का अवलोकन किया तथा सभी ने मतगणना हॉल में बैठकर मतगणना गतिविधियों को व्यावहारिक रूप से समझने का प्रयास किया। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने प्रशिक्षण के दौरान मतगणना की तैयारियों में तेजी लाते हुए इसे अंतिम रूप देने के निर्देश दिए।