चिंतन शिविर में पहुंचे भागवत, सुदर्शन भगत ने गिनाई केंद्र सरकार की योजनाएं

 

रायपुर। आरएसएस प्रमुख सरसंघ चालक मोहन भागवत राजधानी पहुंच चुके है। रायपुर पहुंचते ही भागवत भारत की जनजातियों की अस्मिता एवं अस्तित्व पर आयोजित चिंतन शिविर में शिरकत करने पहुंचे। निमोरा में हो रहे इस शिविर देश भर के जनजाति समाज के 140 चिंतक एवं सामाजिक मुखिया हिस्सा ले रहे है। ये पूरा कार्यक्रम आरएसएस का गोपनीय कार्यक्रम है, लिहाज़ा इस कार्यक्रम में उन्ही लोगो को प्रवेश दिया जा रहा है जिनके पास कार्यक्रम का पास है।
मिली जानकारी के मुताबिक़ कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा के तमाम आदिवासी नेताओं के आलावा प्रदेश के आदिवासी समाज से भी विभिन्न आदिवासी नेताओं का जमावड़ा भी इन शिविर में लगा है। शिविर में जनजाति समाज के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के कामकाजों का पॉवर पॉइंट प्रेजेंटेशन भी केंद्रीय जनजातीय कार्य राज्‍यमंत्री सुदर्शन भगत ने दिया। उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न कामकाजों और योजनाओं का विस्तृत विवरण दिया। गौरतलब है कि शिविर में सरसंघ चालक मोहन भागवत समेत वनवासी कल्याण आश्रम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदेवराम उरांव, केंद्रीय केंद्रीय जनजातीय कार्य राज्‍यमंत्री सुदर्शन भगत, अनुसूचित जाति जनजाति आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नंदकुमार साय, राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम समेत तमाम आदिवासी नेता मौजूद है।
शिविर के आज के सत्र समापन होने के बाद मोहन भागवत आज देर शाम जागृति मंडल जाऐंगे, जहां वे संघ के प्रदेश पदाधिकारियों के साथ एक अहम बैठक लेंगे। इस बैठक में भागवत प्रदेश के राजनैतिक हालात, जनता के बीच से उठ रही प्रमुख मांग, ज्वलंत मुद्दों पर सकरार के कामकाज, संघ के ग्रामीण क्षेत्रों में स्तिथि, पूर्व की बैठक में दिए निर्देशों की वर्तमान स्तिथि जैसे कई अहम मुद्दों पर समीक्षा करेंगे।