शिल्पगुरू पुरस्कार में बोली स्मृति, संस्कृति और विरासत को आगे बढ़ाए

केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी देश के वरिष्ट शिल्पकारो का हुआ सम्मान

रायपुर। प्रदेश सरकार के ग्रामोद्योग विभाग और केन्द्रीय कपड़ा मंत्रालय के हस्तशिल्प प्रभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार समारोह में देश के जाने-माने वरिष्ठ और सिद्धहस्त शिल्पियों को शिल्पगुरू पुरस्कार और राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। यह सम्मान केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के हाथों दिया गया।

स्मृति ईरानी

यह पहला अवसर है, जब राष्ट्रीय हस्तशिल्प पुरस्कार वितरण के लिए प्रदेश की राजधानी रायपुर में समारोह आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के विशेष आग्रह पर केन्द्रीय कपड़ा मंत्रालय ने यह आयोजन रायपुर में करने का निर्णय लिया था। कपड़ा मंत्रालय की ओर से इस अवसर पर वर्ष 2016 के सिद्ध हस्तशिल्पियों को शिल्प गुरू पुरस्कार और राष्ट्रीय पुरस्कार दिए गए।

भारतीय संस्कृति और विरासत को आगे बढ़ाए-ईरानी
समारोह की अध्यक्षता करते हुए केन्द्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने शिल्पकारों से आव्हान किया कि वे भारतीय संस्कृति और पूर्वजों से विरासत में मिली अपनी इस प्रतिभा को न केवल सुरक्षित रखें बल्कि उसे निरंतर आगे बढ़ाते हुए नई पीढ़ी को भी इन विधाओं में अच्छी तरह से तैयार करें। श्रीमती ईरानी ने समारोह में बताया कि भारत से पिछले चार वर्ष में परम्परागत शिल्पकारों की एक लाख 26 हजार करोड़ रूपए की कलाकृतियों का निर्यात हुआ है। इससे हमारे देश के शिल्पकारों को आर्थिक ताकत के रूप में नई पहचान मिली है और विश्व के अनेक देशों में हमारी समृद्ध कला संस्कृति को पहचान मिली है।

आठ शिल्पियों को शिल्प गुरू को मिला पुरस्कार
आयोजन में आठ शिल्पियों को शिल्प गुरू पुरस्कार और 25 शिल्पियों को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। शिल्प गुरू पुरस्कार की शुरूआत केन्द्र सरकार द्वारा वर्ष 2002 में की गई थी। पुरस्कार के रूप में दो लाख रूपए नगद और एक स्वर्ण सिक्के के साथ शॉल, प्रमाण पत्र और ताम्र पत्र दिए गए। जिन शिल्पकारों को वर्ष 2016 का शिल्प गुरू पुरस्कार दिया गया, उनमें दिल्ली के मोहम्मद मतलूब, जम्मू-कश्मीर के गुलाम हैदर मिर्जा, ओड़िशा के रूपम माथरू, पंजाब के गोपाल सैनी, राजस्थान के अर्जुन प्रजापति और बाबूलाल मरोटिया, पश्चिम बंगाल की तृप्ति मुखर्जी शामिल हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.