सिमी का फरार आतंकी अजहरुद्दीन उर्फ अज़हर हैदराबाद से गिरफ्तार

रायपुर में सिमी का रैकेट फूटने के बाद से आरोपी था फरार

रायपुर | रायपुर पुलिस को आज बड़ी सफलता हाथ लगी है। आतंकियों के प्रतिबंधित संगठन सिमी के सदस्य को रायपुर पुलिस ने हैदराबाद एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है। बताया जाता है कि यह आरोपी अजहरुद्दीन उर्फ अज़हर पिछले 6 वर्षों से रायपुर से फरार था । जिसकी खोज में रायपुर की पुलिस लगातार लगी हुई थी। रायपुर पुलिस ने सिमी के प्रकरण में 17 आरोपियों को गिरफ्तार पहले ही कर चुकी है। वर्ष 2013 में थाना सिविल लाइन में अपराध दर्ज किया गया था। आज गिरफ्त में आए आरोपी अजहर रायपुर और आसपास के क्षेत्रों में प्रतिबंधित संगठन सिमी का प्रचार प्रसार और संगठन के लिए कार्य किया करता था। साथ ही मीटिंग का भी आयोजन किया करता था।


आरोपी पर बोधगया और पटना बम ब्लास्ट के आरोपियों को रायपुर में छिपने के दौरान उन आतंकियों को साथ देने का भी आरोप है। आरोपी अजहरुद्दीन उर्फ अजहर को पकड़ने के लिए एटीएस एवं रायपुर पुलिस की टीम मुखबिर लगा कर रखी थी। जिसकी सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख के निर्देश पर सीएसपी सिविल लाइन त्रिलोक बंसल के नेतृत्व में रायपुर पुलिस एवं एटीएस की विशेष टीम का गठन कर हैदराबाद रवाना किया गया था। हैदराबाद में एयरपोर्ट अथॉरिटी से समन्वय स्थापित कर आरोपी के संबंध में जानकारी ली गई। इसके बाद हैदराबाद एयरपोर्ट में विदेश से आने वाली फ्लाइट में उतरने वाले सभी यात्रियों पर निगरानी की गई। इसी दौरान आरोपी अजहरुद्दीन और अजहर एयरपोर्ट से बाहर निकलता हुआ दिखाई दिया। उसी वक्त टीम ने आरोपी को धर दबोचा।

आरोपी ने बदल था नाम
आरोपी अजहरुद्दीन उर्फ अजहर ने अपने पासपोर्ट में नाम भी बदल लिया था। पासपोर्ट में केमिकल अली के रूप में अपना नाम दर्ज किया था। रायपुर के सिविल लाइन थाने में वर्ष 2013 में ही अजहरुद्दीन के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था, जब से वह फरार चल रहा था। हैदराबाद एयरपोर्ट से गिरफ्तार किए गए आरोपी के कब्जे से एक पासपोर्ट, दो ड्राइविंग लाइसेंस, एक बोर्डिंग पास और एक मतदाता परिचय पत्र भी जप्त किया गया है। आरोपी अजहरुद्दीन रायपुर के मौदहापारा का निवासी है। आरोपियों के विरूद्ध रायपुर के थाना सिविल लाईन में अपराध क्रमांक 740/19 धारा 3, 7, 10, 11, 13, 15, 16, 18, 19, 39, 40 विधि विरूद्ध क्रिया कलाप अधिनियम 212, 216, 121, 124(क), 153(ए) भादवि. एवं 3, 4 विस्फोटक अधिनियम एवं 25, 27 आम्र्स एक्ट के तहत् अपराध पंजीबद्ध किया गया है। पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद अब रायपुर पुलिस उससे अन्य मामलों की पता साजी भी कर रही है।