स्वच्छ भारत अभियान : हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी नहीं रुका राष्ट्रपिता का अपमान

स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े प्रतीकों से हो रहा राष्ट्रपिता का अपमान

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष बी.डी. कुरैशी द्वारा स्वच्छ भारत अभियान में महात्मा गांधी के अपमान को लेकर हाईकोर्ट में दायर की गई थी। हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को स्वच्छता अभियान से गांधी जी के चश्मे के निशान को तत्काल हटाने का आदेश भी दिया था बावज़ूद उसके सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंगी। जिसके बाद अब कुरैशी ने एक बार फिर न्यायलय का दरवाज़ा खटखटाया है। कुरैशी ने 6 जुलाई 2018 को बिलासपुर हाईकोर्ट में दस्तावेज सहित शिकायत दर्ज कराई थी। जिस पर अमल करने न्यायधीश ने 4 सप्ताह का समय केन्द्र और राज्य सरकार को दिया है। अब इस मामलें की अगली सुनवाई की तारीख 14 अगस्त को मुक़र्रर की गई है।

दरअसल बद्दरुद्दीन कुरैशी ने हाईकोर्ट में याचिका क्रमांक 117/216, 8.12.2016 को दायर की थी। जिसमें स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के फोटो एवं लोगो (चश्मा) स्केच को सुलभ शौचालय की दीवार, कूड़ादान, डस्टबीन में यूज करने पर आपत्ति दर्ज़ कराई गई थी। जिसमें कहा गया था इन स्थानों में लोग थूकते है, ऐसे मलिन स्थानों में फोटो एवं लोगो लगाकर सरकार राष्ट्रपिता का अपमान कर रहे है।

इस पर हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुये प्रदेश के मुख्यमंत्री और केन्द्र सरकार को राष्ट्रपिता के फोटो एवं चश्में के स्केच वालों लोगो को तत्काल हटाने का निर्देश जारी किया था। साथ ही इसके परिपालन में राज्य सरकार के अपर मुख्य सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सचिव सामान्य प्रशासन विभाग, प्रदेश के सभी कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, नगर निगम के आयुक्त और जिला पंचायतों के विभागों को परिपत्र भेजा था। परंतु आज भी कई असम्मानजक स्थानों पर से लोगो आदि को नहीं हटाया गया है। पूर्व मंत्री बी.डी. कुरैशी की याचिका पर माननीय उच्च न्यायालय ने पुनः 23.3.2017 को आदेश जारी किया है, इसके बावजूद भी इसका पालन नगर पालिका एवं नगर निगम में नहीं किया जा रहा है।