राजधानी रायपुर में होगी “पटनायक कमेटी” की दूसरी बैठक

30-31 अक्टूबर को राजधानी रायपुर में होगी बैठक

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार की आदिवासियों के खिलाफ दर्ज़ मामलों की जाँच के लिए बनाई गई “पटनायक कमेटी” की दूसरी बैठक राजधानी में होगी। ये बैठक 30 और 31 अक्टूबर को राजधानी रायपुर में होगी। इस बैठक में आदिवासियों से जुड़े तकरीबन 23 हज़ार से ज्यादा मामलों की समीक्षा होगी। जिसमें लगभग 16 हज़ार प्रकरणों पर जिला सत्र न्यायालय या फिर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट से फैसले आ चुके है, और तकरीबन साढ़े 6 हज़ार से ज्यादा मामलों की सुनवाई कोर्ट में चल रही है। इनमें सबसे ज्यादा मामलें नक्सल हिंसा के बताए गए है। इन सभी मामलों की समीक्षा के साथ यह कमेटी इस बात पर भी अपनी एक रिपोर्ट तैयार करेगी कि उक्त मामले में आरोपित आदिवासी वास्तविक तौर पर आरोपी है भी या नहीं। जिसके आधार पर इन मामलों के खात्मे की सिफारिश यह कमेटी सरकार को करेगी।

दरअसल साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने आदिवासियों के लिए यह ऐलान किया था कि उन पर दर्ज मुकदमों की जांच विधिवत कराई जाएगी। जिसके बाद निर्दोष आदिवासियों को इन मामलों से राहत देने का काम कांग्रेस की सरकार करेगी। सूबे की कमान सम्हालने के बाद भूपेश सरकार ने अपनी इस घोषणा पर काम करना शुरू किया और कमेटी बनाकर उन्हें इन सभी प्रकरणों के दस्तावेज सौप अध्ययन कर निष्कर्ष निकालने निर्देशित किया था। इस कमेटी में बतौर अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज एके पटनायक, छत्तीसगढ़ के महाधिवक्ता, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, आदिम जाति विकास विभाग के सचिव, DGP, DG(जेल), DG (नक्सल ऑपरेशन) और बस्तर संभाग के कमिश्नर को सदस्य बनाया गया है। 30 और 31 अक्टूबर को यह इस कमेटी की दूसरी दफे बैठक होगी।

संबंधित पोस्ट

सीएए, एनपीआर पर आदेश पारित करने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

इलेक्टोरल बांड स्कीम पर तत्काल रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

मुशर्रफ की मुश्किलें बढ़ीं, मौत की सजा के खिलाफ सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

कलबुर्गी हत्या मामले की सुप्रीम कोर्ट ने बंद करायी निगरानी

राजद्रोह मामले में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे मुशर्रफ

एससी ने निर्भया के दोषियों की क्यूरेटिव पिटिशन को निराधार बताया, खारिज

वाडिया ने रतन टाटा के खिलाफ अवमानना का मामला लिया वापस

मिस्त्री को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलएटी के आदेश पर लगाई रोक

जम्मू-कश्मीर में पाबंदियों की सप्ताह भर के अंदर समीक्षा की जाए : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट हिंसा रुकने के बाद ही सीएए की वैधता तय करेगा

आप किसी के कंधे का इस्तेमाल नहीं कर सकते : सुप्रीम कोर्ट

कर्नाटक के अयोग्य विधायकों को मिली राहत