मानसून सत्र : अंतिम सत्र सदन से सड़क तक गरमाएगा माहौल

रायपुर। विधानसभा का मानसून और इस सरकार का संभवतः आखरी सत्र हंगामेदार रहेगा ही। इसके आलावा राजनैतिक पार्टियां सड़क पर भी सरकार के खिलाफ जंगी प्रदर्शन करने की तैयारी में है। 3 जुलाई को जिला कांग्रेस कमेटी की तरफ से सरकार की वादाखिलाफी समेत तमाम मुद्दों को लेकर विधानसभा की ओर कूच करेगी, तो ठीक अगले दिन जोगी कांग्रेस भी पट्टे की मांग को लेकर सरकार के खिलाफ किलेबंदी करेगी। गौरतलब है कि कांग्रेस और जोगी कांग्रेस के आलावा अनियमित कर्मचारियों के महासंघ, शिक्षाकर्मियों ने भी विधानसभा भवन के घेराव की घोषणा की है।
विधानसभा घेराव के लिए कांग्रेस ने जहाँ राशन कार्ड निरस्तीकरण, जाति प्रमाणपत्र बनाने की जटिल प्रक्रिया, शहरी क्षेत्र में सरकारी जमीन पर काबिज परिवारों को पट्टा नहीं देने, विधवा, निराश्रित पेंशन को लाभ हितग्राहियों को नहीं मिलने और मजदूर कार्ड नहीं बनने को मुद्दा बनाया है।
वही जोगी कांग्रेस ने पूर्ण शराबबंदी, किसानों के कर्ज माफी,सरकारी-गैर सरकारी संंस्थाओं में छत्तीसगढ़ के युवाओं को 90 फीसदी आरक्षण जैसी मांगों को लेकर विधानसभा कूच करेगी। जोगी कांग्रेस के घेराव में पार्टी के तमाम बड़े नेता शामिल होेंगे।

कर्मचारी महासंघ और शिक्षाकर्मी भी होंगे आंदोलित
मिली जानकारी के मुताबिक़ छत्तीसगढ़ अनियमित कर्मचारी महासंघ और शिक्षाकर्मियों की तरफ से भी विधानसभा घेराव की रणनीति तैयार की गई है। कर्मचारी महासंघ द्वारा नियमितीकरण, वेतन विसंगति, भत्ता जैसे दर्जनभर मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ हुंकार भरेगी, वहीं शिक्षाकर्मियों में वे शिक्षाकर्मी आंदोलित होंगे जिनका संविलियन क्राइटेरिया पूरा नहीं हो पाया है।

पांच बैठकों वाले सत्र में लगे 768 सवाल
विधानसभा के मानसून सत्र के लिए विधायकों ने 768 सवाल लगाए हैं। इसमें से 389 तारांकित और 379 अतारांकित सवाल हैं। सत्र के पहले दिन मृतकों को श्रद्धांजलि देने के बाद उस दिन का सत्र खत्म हो जाएगा। अगले दिन से चर्चा का दौर शुरू होगा।