गाजीपुर बॉर्डर परकिसानों की चेतावनी, बोले, ‘न हम उधर जाएंगे, न कोई इधर आएगा’

किसानों ने बॉर्डर पर एक बैनर और जमीन पर 'धारा 288' लिख दिया

गाजीपुर बॉर्डर | कृषि कानूनों के खिलाफ विभिन्न राज्यों के कई किसान और किसान संगठन का प्रदर्शन जारी है, पंजाब-हरियाणा और यूपी के किसान लगातार आंदोलन छेड़े हुए हैं। गाजीपुर बॉर्डर पर अब किसानों ने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए एक नया तरीका निकाला है। जिसमें किसानों ने बॉर्डर पर एक बैनर और जमीन पर ‘धारा 288’ लिख दिया है।

दरअसल किसानों का मानना है कि वो पुलिस के साथ शांति व्यवहार बनाए रखना चाहते हैं। गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का कहना है कि, “अगर प्रशासन हमारे ऊपर धारा 144 लगाती है, तो हम और सख्ती से इस धारा का पालन करेंगे। यानी न कोई इधर आ पाएगा और ना ही हम उधर जाएंगे।”

हालांकि अभी तक प्रशासन द्वारा धारा 144 नहीं लगाई गई है।

किसानों का कहना है कि, “न हम उस तरफ जाएंगे और न किसी को इधर आने देंगे। हमारे नियम कायदों का भी सम्मान किया जाना चाहिए, जिससे शांति बनी रहे।”

जानकारी के अनुसार बड़ी संख्या में दिल्ली पुलिसकर्मी, आरएएफ, बीएसएफ और सीआईएसएफ के जवानों को तैनात किया गया है। वहीं रविवार के मुकाबले आज गाजीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था ज्यादा सख्त है।

बॉर्डर पर बैरिकेड के अलावा, बड़े बड़े पत्थर लगाकर बीच में रास्ते को ब्लॉक किया हुआ है।

दरअसल केंद्र सरकार सितंबर महीने में 3 नए कृषि विधेयक लाई थी, जिन पर राष्ट्रपति की मुहर लगने के बाद वे कानून बन चुके हैं। जिसके खिलाफ किसानों का ये आंदोलन छिड़ा हुआ है।

Farmers Protest

देश के करीब 500 अलग-अलग संगठनों ने मिलकर संयुक्त किसान मोर्चे का गठन किया है। वहीं ये सभी संगठन केंद्र सरकार के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं।

उनका कहना है कि इन कानूनों से किसानों को नुकसान और निजी खरीदारों व बड़े कॉरपोरेट घरानों को फायदा होगा।  न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म हो जाने का भी डर है।
–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

एनसीबी ने मुंबई में दाऊद इब्राहिम से जुड़े ड्रग्स फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया

पुल और सीआरपीएफ कैम्प के विरोध में हजारों ग्रामीण हाईवे पर, चक्काजाम  

ओडिशा से निकली एंबुलेंस छत्तीसगढ़ में खड़ी टैंकर से टकराई, चालक की मौत

कृषि कानून पर नौवें दौर की वार्ता बिना किसी निर्णय के समाप्त, अगली बैठक 19 को  

कुत्ते को घर के सामने घुमाने से मना करने पर विधवा शिक्षिका की हत्या

ट्रंप के खिलाफ दूसरा महाभियोग लगाने की तैयारी शुरू : पेलोसी

रन आउट मामले में रवींद्र जडेजा का एक रिकार्ड , संयोग ऐसा भी

6 साल बाद सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में नहीं चला डेविड वार्नर का बल्ला

वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 8.6 करोड़ हुए, मौतों की संख्या 18.6 लाख से अधिक

अंबिकापुर में मजदूरों से भरी बस पलटी , 1 मौत , 4 गंभीर

देश की सबसे कम उम्र की पहली महापौर आर्या राजेंद्रन ने ली शपथ  

दंतेवाड़ा: मुठभेड़ के दौरान नक्सल आईइडी ब्लास्ट में एक जवान जख्मी